राष्ट्रजीवन की गति का मुख्य दिक्सूचक है संविधान

राष्ट्रजीवन की गति का मुख्य दिक्सूचक है संविधान

  हृदयनारायण दीक्षितभारत ने 26 जनवरी 1950 को पहला गणतंत्र दिवस मनाया। भारतीय संविधान सभा की आखिरी बैठक (26 नवम्बर…

मूलभूत सुधारों की राह देखती नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020

मूलभूत सुधारों की राह देखती नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020

प्रो. गीता गाँधी किंगडन एवं अरविन्द पानगढ़िया राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 पर विशेष 34 वर्षों के एक लम्बे अन्तराल के बाद…

आत्म निर्भर होता खिलौना उद्योग

आत्म निर्भर होता खिलौना उद्योग

डॉ श्रीकांत श्रीवास्तव(लेखक भारतीय सूचना सेवा के अधिकारी है। लेख मे व्यक्त विचार उनके अपने निजी है।) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी…

आत्मनिर्भर भारत : रेहड़ी पटरी दुकानदारों को बड़ी राहत

आत्मनिर्भर भारत : रेहड़ी पटरी दुकानदारों को बड़ी राहत

डॉ श्रीकांत श्रीवास्तव(लेखक भारतीय सूचना सेवा के अधिकारी है। लेख मे व्यक्त विचार उनके अपने निजी है।) देश के रेहड़ी-पटरी…

‘आत्मनिर्भर’ खिलौना उद्योग के लिए लोगों की आदतों में बदलाव लाएं

‘आत्मनिर्भर’ खिलौना उद्योग के लिए लोगों की आदतों में बदलाव लाएं

 संजना कादयान और तुलसीप्रिया राजकुमारी चीन से सस्‍ते आयात की भरमार ने भारतीय खिलौना उद्योग का चैन भी छीन रखा…

जन-धन खाते मतलब समावेषी विकास की लाइफलाइन

जन-धन खाते मतलब समावेषी विकास की लाइफलाइन

प्रो0 एम0 के0 अग्रवालअध्यक्ष, अर्थषास्त्र विभाग, लखनऊ विष्वविद्यालय यह एक विचित्र संयोग है कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देष…

मरुस्थलीय टिड्डी- एकजुट होकर महाद्वीप पार कर सकती हैं

मरुस्थलीय टिड्डी- एकजुट होकर महाद्वीप पार कर सकती हैं

आतिश चंद्र एवं डॉक्टर निर्जर वी कुलकर्णी,संयुक्त सचिव (पीपी), कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार  टिड्डियां विश्व के सबसे…

भारत के युवाओं के लिए मोदी सरकार का क्रांतिकारी सुधार

भारत के युवाओं के लिए मोदी सरकार का क्रांतिकारी सुधार

एनआरए- नौकरी चाहने वालों के लिए जीवन की सुगमता का द्वार डॉ. जितेंद्र सिंह,केंद्रीय राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार), एमओएस (पीपी)…

एन.आर.ए. – एक एतिहासिक कदम

एन.आर.ए. – एक एतिहासिक कदम

– डा0 श्रीकांत श्रीवास्तव(लेखक भारतीय सूचना सेवा के अधिकारी है। लेख मे व्यक्त विचार उनके अपने निजी है।) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की…

सिल्‍क साडि़यों का केन्‍द्र बनारस

सिल्‍क साडि़यों का केन्‍द्र बनारस

लेखक : डॉ. आर.के.पंत, सेवानिवृत्‍त उप सचिव (तकनीकी),केन्‍द्रीय सिल्‍क बोर्ड, लखनऊ बनारस जिसे बेनारस या वाराणसी के नाम से भी जाना जाता है। गंगा नदी के…

1 2 3