हनुमान जी को इसलिए कहा जाता है संकटमोचन




हनुमान जी सभी संकट दूर करते हैं इसलिए उन्हें संकटमोचन कहा जाता है।
वैदिक ग्रंथों में मंगल का दिन सबसे शुभ और कल्याणकारी माना गया है। यही वो दिन है जब मंदिरों में महाबली हनुमान के भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है क्योंकि इसी दिन भक्तराज हनुमान अपने भक्तों की सुध लेते हैं। हनुमान साधना के सबसे और प्रभावी मंत्र इस प्रकार हैं।
संपत्ति से जुड़ी समस्या हो तो
मंगलवार को मंदिर जाकर हनुमान जी के सामने खड़े होकर चालीसा का पाठ करें
फिर उन्हें बूंदी या लड्डू का भोग लगाएं और अपनी समस्या उनसे कहें
निश्चित संख्या में मंत्र जाप का संकल्प लें और वहीं बैठकर हनुमान जी के विशेष मंत्र का जाप करें।
मंत्र है- ॐ मारकाय नमः, मंत्र जाप लगातार 9 मंगलवार को करें।
नौकरी या रोजगार की समस्या हो तो
मंगलवार को हनुमान मंदिर जाकर महाबली हनुमान को बूंदी के 9 लड्डू अर्पित करें।
फिर पीपल के पत्ते पर सिंदूर से अपनी समस्या लिखकर उनके चरणों में रख दें।
निश्चित संख्या में मंत्र जाप का संकल्प लें
इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान जी के विशेष मंत्र का जाप करें
मंत्र है- ॐ पिंगाक्षाय नमः, संकल्प की संख्या में लगातार 9 मंगलवार इस मंत्र का जाप करें
अगर आपको मान-सम्मान और यश प्राप्त करने की कामना हो तो मंगलवार को करें इस मंत्र का जाप….
मान-सम्मान और यश पाने के लिए
मंगलवार को हनुमान मंदिर जाकर सबसे पहले राम-दरबार के सामने सिर झुकाकर प्रणाम करें
फिर हनुमान जी से मान-सम्मान और यश प्राप्ति की प्रार्थना करें और निश्चित संख्या में मंत्र जाप का संकल्प लें
इसके बाद वहीं बैठकर हनुमान जी के विशेष मंत्र का जाप करें
मंत्र है- ॐ व्यापकाय नमः, संकल्प की संख्या में लगातार 9 मंगलवार इस मंत्र का जाप करें
जीवन की तमाम समस्याओं के लिए रामबाण उपाय हैं ये मंत्र. जैसे –जैसे आप इन मंत्रों का जाप करते जाएंगे। वैसे वैसे आपकी स्थिति सुधरती जाएगी।






The following two tabs change content below.

न्यायाधीश, हिन्दी दैनिक समाचार-पत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.